Loading...

आपको भी बिना ATM, बिना Bank की लाइन में लगे पैसा चाहिए तो ”यहाँ जाइये”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 8 नवंबर को एक बड़ा फैसला लेते हुए 1000 और 500 के नोटों का चलन बंद की घोषणा की थी, हालाँकि ये फैसला जनहित में ही लिया गया है, लेकिन फ़िलहाल आम आदमियों के जनजीवन में सरकार के इस फैसले के बाद काफी अफ़रा तफ़री मची हुई है| नोटबंदी का आज 16 वां दिन है लेकिन लोगो को कैश क्रंच का असर कम पड़ता फ़िलहाल तो नज़र नहीं आ रहा है।

देश में लोगों ने सरकार के इस बड़े फैसले के खिलाफ आवाज भी उठाई हैं। हमे यह बताने की ज़रुरत तो नहीं है कि नकली नोटों से छुटकारा पाने के लिए, और जालसाज़ी से बचने के लिए नई तकनीक से तैयार किए गए ज़्यादा सुरक्षित नोट लाने और टैक्स चोरी के लिए कालेधन के रुप में किए जाने वाले नगद लेन-देन को जड़ से ख़त्म करने के लिए सरकार ने ये बड़ा फैसला लिया है।

नोटबंदी के 16 वें दिन भी लोगों में पैसे की काफी कमी देखी गयी है| कभी घंटों ATM की लाइन में लगने के बाद पता चलता है कि अब ATM में पैसे ख़त्म हो गए हैं, या तो दिन भर पैसों के इंतज़ार में बैंको की लम्बी लाइन में खड़े होने के बाद जैसे आपका नंबर आता है तब पता चलता है कि अब बैंक में भी पैसे ख़त्म हो गए हैं| ऐसे में सरकार ने इस बड़ी समस्या से निपटने के लिए और देश की जनता को पैसों की समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए एक बार फिर ये बड़ा फैसला सुनाया है |

आम जनता के लिए मोदी सरकार एक बार फिर बड़ी राहत की खबर दी है दरअसल बिग बाजार ने ऐलान किया है कि उसके 260 स्टोरों पर ग्राहक अपने डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करते हुए 2000 रुपये तक निकाल सकेंगे। बिग बाजार में यह सुविधा 24 नवंबर से शुरू होगी फ्यूचर ग्रुप के संस्थापक किशोर बियानी ने ट्वीट कर बताया कि ‘गुरुवार से कोई भी बिग बाजार में डेबिट कार्ड का प्रयोग करके 2000 रुपये तक निकाल सकता है| बिग बाजार ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के साथ मिलकर यह सुविधा शुरू की है।

दूसरी बड़ी खबर यह है के लोगों की शादी-विवाह वाले परिवारों को अब अपने खाते से 2.5 लाख रुपये निकालने के लिए शर्तों में कुछ छूट भी दी जा रही है| जिसके तहत अब केवल 10,000 रुपये से अधिक भुगतान के लिए ही घोषणा पत्र देना होगा। साथ ही आरबीआई ने बैंकों से किसानों को देने के लिए पर्याप्त पैसे की उपलब्धता सुनिश्चित करने को भी कहा है। इसका मकसद यह सुनिश्चित करना है कि किसानों के मौजूदा रबी मौसम में बीज, उर्वरक और अन्य कच्चे माल की खरीदारी के लिये पर्याप्त वैध नोट हों

जहाँ एक तरफ नोटबंदी के फैसले के बाद कदम-कदम पर सरकार ये सुनिश्चित कर रही है कि लोगों को कम से कम घर खर्च के लिए तो कोई दिक्कत न हो, ऐसे में कई बार अलग-अलग नियम बना कर सरकार ने लोगों की परेशानी कम करने की भी कोशिश की है| ऐसे में देश के नागरिक होने के नाते हमारा भी फ़र्ज़ बनता है कि हम भी कालेधन की इस लड़ाई में सरकार का पूरा समर्थन करें और संयम से काम लें।

नए अपडेट पाने के लिए फेसबुक पेज ज़रूर Like करें !

Loading...
loading...