यहाँ हिन्दू, मुस्लिम और ईसाई खुलेआम खाते हैं बीफ़, बढे शौक से, बिना किसी ख़ौफ़ के

उत्तरी मध्य और पश्चिमी भारत में ज्यादातर जगहों पर गौमांस खाना पूरी तरह से बैन है हलाकि केरल में भी खाने पर बैन नहीं है यहां 55 प्रतिशत से भी ज्यादा हिंदू आबादी वाला केरल उन गिनी-चुनी जगहों में से हैं जहां पर बीफ़ को सेक्युलर मीट माना जाता है.

यहाँ सांप्रदायिक भेदभाव पैदा करने के लिए नेता कमर कैसे हुए हैं, लेकिन लोग भाईचारा नहीं छोड़ते

आपकी जानकारी के लिए बता दें केरल में बीफ़ बहुत महत्वपूर्ण होता है, यहां आपको एक ही टेबल पर  अलग-अलग जाति और धर्म की भिन्नताओं के बावजूद एक साथ बैठकर बीफ़ वाली बिरयानी, फ्राई बीफ़ या बीफ़ से बने कबाब खाते हुए दिख जाते हैं. और यही इसकी एक खास वजह है कि यह राजनीति का हिस्सा बन गया है.

यहां बीफ़ के पकवान से निकलने वाली करी पत्ते, दालचीनी, लौंग, नारियल, धनिया पाउडर और हरी मिर्ची की मदमस्त खुशबु जब आपके नथुनों तक पहुंचती है तो यकीन मानिए आप खुद को रोक नहीं पाते हैं.

वैसे बीफ़ को भारतीय खाने से जोड़कर देखा जाता है. और यहां के मतलब केरल के निवासियों का सबसे पसंदीदा खाना बीफ़ फ्राई अधिक लोकप्रिय है खुशबू और महक से भरी बिरयानी को रोज भारी मात्रा में लोग खाते हैं. एक ही बेंच पर आपको सभी समुदाय के लोग देखने को मिल जायेंगे.

बीफ़ इसलिए भी ज्यादा लोकप्रिय है क्योंकि चिकन और मटन के मुकाबले में पेट के लिए काफी हल्का होता है और आर्थिक रुप से भी यह लोगों को काफी सस्ता पड़ता है.

Facebook Comments