Loading...

मोदी का ये ‘तीन तलाक’ पर बयान, सुखा देगा मुस्लिम संगठनों की जान !

‘तलाक, तलाक, तलाक‘, ये शब्द सुनन एक शादीशुदा मुसलमान महिला के लिए बहुत मुश्किल है l इसी पर अब सुप्रीम कोर्ट के पूछने पर केंद्र सरकार ने साफ़ तौर पर बता दिया है कि वो इसका विरोध करती है और अब इसे और जारी रखने के पक्ष में भी नहीं है l

भारत एक सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है, और लोकतंत्र का सबसे बड़ा पहला पहलु है कि इसमें सभी एक सामान हैं, सभी को एक समान हक मिले ! पर अलग-अलग मजहबों,कम्यूनिटीज़ के अलग-अलग पर्सनल लॉ लोकतंत्र के इस अहम पहलु को खोकला कर रहे है , इसीलिए UCC (यूनिफार्म सिविल कोड) की ज़रूरत को महसूस किया गया और आज सरकार इसे लागू कर देना चाहती है l

पर इसमें सबसे ज्यादा दिक्कत मुसलामानों को ही लग रही है जिन्हें ये बात मंजूर तो क्या पच तक नहीं पा रही l और यह इसलिए क्योंकि UCC लागू होने से हर मजहब के लिए एक जैसा कानून आ जाएगा l यानी मुस्लमानों को भी तीन शादियां करने और पत्नी को महज तीन बार तलाक बोले देने से रिश्ता खत्म कर देने वाली परंपरा खत्म हो जाएगी.

ऐसी मांग खुद मुस्लिम समुदाय के अंदर से ही उठकर आई है, और मुस्लिम महिलाएं लम्बे समय से तीन तलाक के खिलाफ आवाज़ भी उठा रही हैं l यही वजह है की अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने UCC लागू कर देना का फैसला ले लिया है l

नए अपडेट पाने के लिए फेसबुक पेज ज़रूर Like करें !

Loading...
loading...