Loading...
Loading...

वायरल विडियो: पकड़ा गया मोदीजी का एक और झूट देखें ये रहा सबूत

loading...

देश में नोटबंदी के बाद से मोदी सरकार भारत को कैशलेस देश बनाने की बात कर रही है और लोगों को पेटीएम इस्तेमाल करने के लिए कहा जा रहा है। अब जहाँ देखो वहीँ पेटीएम नजर आ रहा है और हर कोई भुगतान करने के लिए पेटीएम करने के लिए बोल रहे है। लेकिन जिस तरह भारत को प्लास्टिक मनी इस्तेमाल करने के लिए और कैशलेस भारत बनाने की बात कही जा रही है।

अगर देखा जाये तो इस बात की सच्चाई ये है कि, भारत की अधिकतर जनसंख्या गाँवों में निवास करती है जिनको इस बारें में ज़रा भी नहीं पता की कैशलेस क्या है अभी हाल ही में NDTV के पत्रकार ने एक शहर में भीड़ में खड़े लोगों से पूछताछ की थी तब पाया गया था कि, इनमें से जो लाइन में लगे है और जो दूर गाँवों से शहरों में काम करने के लिए आते है या जो मजदूर और गरीब तबके के लोग है उन्हें इस बारें में जरा भी नहीं पता होता है वह तो सिर्फ यही कहते है कि, जिस दिन हम कमाते है उस दिन घर में राशन लाते है और यह हमारा हर रोज का काम है।

loading...

और इस बात से साफ़ जाहिर हो रहा है कि, इस तरह की बातें करना देश हित और गरीब, मजदूरों के हित में तो कतई तौर पर नहीं है। इस विडियो में ही देख लीजिये आप किस तरह प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी अपनी रैली के दौरान झूठ बोलते हुए पकड़े गए है। अपनी रैली को संबोधित करते हुए लोगों को एक भिखारी के बारें में बता रहे है जो प्लास्टिक मनी भी लेता है।

इसके सहारे पीएम मोदी ने लोगों को ये बताया कि, “भारत के लोग किसी परिवर्तन को बहुत जल्द स्वीकार करते है जबकि, इस बारें में रिसर्च करके देखा गया तो यह मिला कि, जिस विडियो कि बात पीएम मोदी जी कर रहे थे वह दरअसल दो साल पुराना विडियो है जो बहुत पहले इन्टरनेट पर वायरल हो चूका है। अब सवाल ये है कि, पीएम मोदी जी किस बात के सहारे देश को कैशलेस और प्लास्टिक मनी कंट्री मनाने जा रहे है जबकि, देश के लोग इस हालत से जूझ रहे है कि, उनके पास पैसे भी नहीं है और जो मजदूर और गरीब तबके के लोग है वो इन बातों के बारें में जानते तक नहीं है।

Loading...
नए अपडेट पाने के लिए फेसबुक पेज ज़रूर Like करें !

loading...
Loading...