Loading...

सरकार इस बात से बेहद खुश है कि उसके खजाने में पैसों की बरसात हो रही है इस लिए हो सकता है कोई भी बड़ा ऐलान

नई दिल्ली। मोदी सरकार ने इस पूरे नोटबंदी के फैसले को अंतिम मसय तक गोपनीय रखा। लेकिन, सरकार के उच्च पदस्थ सूत्र बताते हैं कि लंबी कतारों और लोगों को हो रही मुश्किलों को लेकर सरकार सजग और सतर्क भी है। खुद प्रधानमंत्री मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली हर रोज इसकी पड़ताल में लगे हैं। यही कारण है कि हर सुबह लोगों को सहूलियत देने के लिए नए नए ऐलान किया जा रहा है।

नोटबैन के फैसले को लेकर वाणिज्य राज्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि सरकार ने कोई जन विरोधी फैसला नहीं किय देश एक बदलाव की ओर बढ़ रहा है। सूत्र बताते हैं कि सरकार ने कैश लेस सोसाईटी की ओर बढने की पूरी तैयारी पहले से ही कर रखी थी।और उधर रिजर्व बैंक ने भी साफ कर दिया है कि नोटों की कोई कमी नहीं है।

अगर इतनी ज्यादा संख्या में नोट छिपे थे तो जाहिर है कि बाजार में उनकी जगह नकली नोटों का ही चलन हो रहा था। इन्हीं नोटों से आतंकी, नक्सली और ड्रग्स की स्मगलिंग में पैसा बरसता था। सरकार जानती है कि इतनी बड़ी संख्या में नोट बाजार से निकले तो इसका दूरगामी असर होगा। यही कारण है कि नोटों की छपाई और उनको बैंकों तक पहुंचाने का काम पूरी तरह गोपनीय रखा गया।

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि नोटबंदी से इन काले धंधों में लगे लोगों को गहरा झटका लगेगा और गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि इससे न सिर्फ काला धन रखने वालों को मुश्किल होगी बल्कि अमीर गरीब के बीच की खाई भी कम होगी।

सरकार को इस बात की जानकारी थी कि तमाम तैयारियों के बावजूद रोजमर्रा की जिंदगी में लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा। फिर भी लोगों में बिना किसी आशंका को जगाए सरकार ने इस काम को अंजाम दिया। सरकार जानती है कि मंडियों में धंधा मंदा पड़ा है, लेकिन इस बात पर सब एकमत हैं कि आम आदमी इस फैसले से खुश है। सूत्र बताते हैं कि जो बड़े नोट होते हैं उन्हें छोटे नोटों के मुकाबले छापना ज्यादा आसान होता है।

इस बात से सरकार भी खुश है कि उसके खजाने में पैसों की बरसात हो रही है। अब पैसे आ रहे हैं तो सुझाव भी आने लगे हैं, जैसे आयकर भरने वालों को और ज्यादा राहत देने का या फिर आयकर के दायरे में आने वालों की संख्या बढाने का। सूत्र बताते हैं सरकार इन सब बातों पर विचार कर रही है, लेकिन फिलहाल इरादा है जल्दी से जल्दी एटीएम और बैंकों के बाहर लग रही लंबी कतारें खत्म करने का।

नए अपडेट पाने के लिए फेसबुक पेज ज़रूर Like करें !

Loading...
loading...