Loading...

पीएम मोदी द्वारा चलाये डिजिटल अभियान में मुस्लिम परिवार ने किया ‘कैशलेस’ निकाह

सूरत। नोटबंदी के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से डिजीटल और नकदी-रहित यानी कैशलेस अर्थव्यवस्था की अपीलों के बीच गुजरात में एक मुस्लिम परिवार ने उनका समर्थन करने के लिए ‘कैशलेस’ निकाह का आयोजन किया जिसमें वर-वधू को तोहफा देने के लिए चेक, ईं-बटुआ, पेटीएम, डेबिट और क्रेडिट कार्ड जैसे नकदी-रहित उपायों का सहारा लिया गया।

यह एक संयोग ही है कि यह निकाह भी प्रधानमंत्री के गृहराज्य गुजरात के इस शहर में ही हुआ है जहां कुछ समय पहले हुई एक अन्य शादी जिसमें फिजूलखर्ची के खिलाफ संदेश देते हुए मेहमानों के केवल चाय पिलाई गई थी और जिस पर महज पांच सौ रुपए का खर्च आया था। इस शादी चर्चा मोदी ने अपने रेडियो संबोधन ‘मन की बात’ में की थी।

सूरत के रामपुरा विस्तार के नूरी मोहल्ला निवासी नजीर अहमद अंसारी की पुत्री आफरीन का यह अनूठा निकाह शनिवार को हुआ था। उन्होंने रविवार को बताया कि कैशलेस और डिजीटल अर्थव्यस्था की प्रधानमंत्री की अपील और काले धन के खिलाफ नोटबंदी के जरिए शुरू हुई उनकी मुहिम के समर्थन और इसके प्रति जागरुकता के लिए ऐसा किया।

उन्होंने बताया कि उनकी पुत्री आफरीन के निकाह के लिए छपे आमंत्रण कार्ड को भी इसी वजह से चेक बुक की शक्ल में तैयार किया गया था। चार पेज के चेकबुक जैसे इस आमंत्रण पत्र को देख कर पहले तो मेहमान हैरत में पड़ जाते थे, पर सबकुछ समझाने पर वह खुश होते थे। नकदी के संकट के इस समय में हमारे मेहमान चेक अथवा अन्य डिजीटल तरीकों से तोहफा देकर बहुत राहत भी महसूस कर रहे थे।

अंसारी ने कहा कि हर किसी ने इस कदम की तारीफ की। इससे यह भी महसूस हुआ कि कैशलेस अर्थव्यवस्था की बात उतनी भी मुश्किल नहीं जितना कई लोग समझ रहे हैं। यह पहल और धीरे धीरे आदत डालने की बात है।

नए अपडेट पाने के लिए फेसबुक पेज ज़रूर Like करें !

Loading...
loading...