अल्लाह की इबादत के अलावा और किसी की पूजा की इजाजत नहीं – दारुल उलूम

मुस्लिमो को सूर्य नमस्कार करने को लेकर पूर्व में छिड़ी बहस के बाद यह मुद्दा एक बार फिर गरमा गया है। इस बार क्रिकेटर मो. कैफ द्वारा सूर्य नमस्कार और योग करने पर देवबंदी उलमा के निशाने पर आ गए हैं।

दारुल उलमा का कहना है कि सूर्य नमस्कार का मतलब सूरज की पूजा करने से है, जबकि इस्लाम में अल्लाह की इबादत के सिवा किसी और की पूजा करने की बिलकुल भी इजाजत नहीं है।

दारुल उलूम जकरिया के वरिष्ठ उस्ताद एवं फतवा ऑनलाइन विभाग के प्रभारी मौलाना मुफ्ती अरशद फारूकी ने कहा कि सूर्य नमस्कार करने को लेकर पहले भी देवबंद से फतवा जारी हो चुका है जिसमें साफ तौर पर कहा गया है कि इस्लाम धर्म इसकी इजाजत नहीं देता है। मुसलमान केवल अल्लाह की इबादत करते हैं। उसके अलावा किसी की भी पूजा करने को इस्लाम में गलत माना गया है। इसलिए मो. कैफ हो या कोई दूसरा अगर वह सूर्य नमस्कार करता है तो उसे अल्लाह से तौबा करनी चाहिए।

Facebook Comments